Ninsda se Ghabrakar apne lakshya ko

“‘निंदा’ से घबराकर अपने “लक्ष्य” को ना छोड़े क्योंकि ‘लक्ष्य’ मिलते ही “निंदा” करने वालों की राय बदल जाती है l”