Mahatvakansha ke bina budhimani

“महत्वाकांक्षा के बिना बुद्धिमानी ऐसी ही है जैसे पर के बिना एक पक्षी ”